तू ज़िद्द कर दुनिया बदलने की,

तू ज़िद्द कर दुनिया बदलने की,
बदलाव कुछ तो आएगा
न बात कर तू कमियों की
दिल का सुकून न पायेगा
नहीं मिलता कुछ दुनिया को हराने से,
लड़ तू अपनी कमियों से 
तभी निखर पायेगा
तेरा मुक़ाबला नहीं है दुनिया से
तेरा मुक़ाबला खुद से ही है
तू कब ये जान पायेगा !

Leave a Reply