किसी का प्यार

किसी बेक़रार दिल का करार बन जाना ,
 तुम हो सके तो किसी का प्यार बन जाना।। 
 मुश्किल हों रास्ते तो परवाह मत करना,
 गैरों को अपना के रास्ते तय कर जाना।
 पराये और अपने का फर्क सिर्फ समझ का है,
 गर हो सके तो फर्क को पार कर जाना।।
 जीवन जीने के यदि आधार ही गलत हों ,
 तो यकीनन है मुश्किल  जीवन में जीत पाना।  
 अकेले भी जीना मुश्किल और साथ में भी,
तो क्यों न साथ रह कर अमूल्य जीवन बिताना।
 मंजिल पर अक्सर  हम अकेले  होते है ,
 तब मुश्किल होता है दिल का संभल पाना ।
 किसी बेक़रार दिल का करार बन जाना ,
 तुम हो सके तो किसी का प्यार बन जाना।। 




Leave a Reply