बेहतर है पत्थर हो जाना दिल का

वो सिसकियाँ वो कराहना दिल का ,
  बहुत कुछ होने पर भी कुछ न कह पाना दिल का। 
   टूटे प्यार और विश्वास की किरचें चुभ रही हैं इस कदर ,
 बेहतर है पत्थर हो जाना दिल का।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s