समझो हमें भी

कुछ समझो हमें भी ,हम क्या चाहते हैं ,
 थोड़ा सा प्यार थोड़ी वफ़ा चाहते है। 
 थक गए हैं हम भी वक़्त के थपेड़ों से ,
 थोड़ी अपनी जमीं अपना आसमां चाहते हैं।। 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s