अवधारणा

कोई जुमला न फेकिये ,कोई राय न बनाइये।
  हम क्या है क्यों है कैसे हैं ,सब वक़्त की मेहरबानी है ।।

Leave a Reply