दिल मेरे

दिल मेरे दिल मेरे काहे शोर करे 
 भोर से रात तक ,रात से भोर तक 
 सिर्फ शोर सिर्फ शोर सिर्फ शोर करे
 दिलो -दिमाग अब मेरे काबू में नहीं 
 जंग ये काहे को रोज रोज करे
 दिल------
 कब तलक साथ दे सांस और धड़कने  
 दिल कहे काहे तू अब न मौज करे 
 दिल---
 जानती हूँ की मैं हार सकती नहीं 
 झुक सकती नहीं टूट सकती नहीं 
 फिर क्यों कोशिशें रोज रोज करे 
 दिल----

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s