आज़ाद

आज़ाद हो गए पंछी 
 फिर पिंजरे में नहीं आते,
  जिनका डर निकल जाए 
 वो फिर काबू नहीं आते । 


  

Leave a Reply