हमसफ़र

कभी लगे बिखरी 
 कभी लगे संवरी सी हूँ 
 तेरा साथ पा के ऐ हमसफ़र
 उलझी भी कुछ 
 सुलझी भी हूँ 

Leave a Reply