काश

मेरी ही कमियाँ 
  मुझको हैं सताती 
 काश दिल दुखाने वालों को 
  माफ़ कर पाती 
 भूलती हूँ जाने कितनी
  बातें  मैं हर दिन
 काश वो सब बातें भूल पाती 
 प्यार पाने को सबका
  मैं इर्द गिर्द घूमती हूँ 
 काश अपने लिए भी
  कुछ तो कर पाती 
 समय और सामर्थ्य
  सब कुछ है पास मेरे 
 काश मैं इसका
  सदुपयोग कर पाती 
 आलस्य और सोच में
  गुजारती थी हर दिन 
 काश बाकी दिनों में
  कुछ सार्थक कर पाती 
 अनुभव से इस उम्र में 
  बदल गयी सोच 
 काश मैं खुद पर
  ज्यादा समय लगाती

One thought on “काश

Leave a Reply