दर्द से रिश्ता





दर्द से अब दिल का
 रिश्ता हो गया
 शैतान देखो हाय एक
 फरिश्ता हो गया
कमअक्ल  नासमझ थे
 नादानी थी हमारी
 पहचान न पायी उसे
 कमजोर  नजर हमारी 
आज मेरा अकड़ा हुआ
 सर नीचा हो गया
 दर्द से अब दिल का
 रिश्ता हो गया
जिसके बिना रहना 
अखरता था हमे 
रहना उसके साथ भी अब 
मुश्किल हो गया
साथ रहते बनता है
 ना अकेले अब 
मुश्किलों से मुश्किल अब 
ये रिश्ता हो गया 
दर्द से अब दिल का
 रिश्ता हो गया

Leave a Reply