याद

चाहे हो पतझड़ या सावन का महीना
 याद तेरी मुझसे जुदा हो कभी ना
है याद तेरी सहारा जीने का 
मुमकिन नहीं यादों के बिन तेरी जीना

Leave a Reply