ख्वाब

मेरे होठों की काम्पन में हैं राज़ कईं 
मेरी नजरों के झपकने में हैं ज़ज्बात कईं 
तुम समझो या न समझो इसका मतलब
 मैं तो यूँ ही बुनती रहती हूँ ख्वाब कईं 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s