अहसास

तू मेरे पास है
 तू मेरे साथ है 
ये ख़ास अहसास ही 
जीने की आस है
शुक्रिया है तेरा 
तू हमेशा ही था
 गम हो या हो ख़ुशी 
तू उजागर ही था
भूली मैं ही तुझे
 जो यूँ मायूस हुई 
आसपास तू तो
 हमेशा ही था  
तेरा अहसास यूँ 
बना ही रहे
अब तो मेरी यही 
तुझसे अरदास है 
तू हमेशा ही था
 तू है हर रूप मेँ  
जीवन की हर
 छाँव मेँ धूप मेँ
तू ताकत मेरी 
बन के मुझ मेँ रहा
हर तरह से मेरा 
तू सहारा बना 
तेरे हर नाम को 
तेरे हर रूप को 
मेरा शत शत नमन
अभिनन्दन धन्यवाद है 
तू मेरे पास है
 तू मेरे साथ है
अहसास ये
बहुत ही ख़ास है 

One thought on “अहसास

Leave a Reply