स्त्री

इंसान है वो प्यार और
 ज़ज्बात से भरी हुई
सिर्फ जिस्म समझ के नासमझ 
न यूँ उसका
 तू अपमान कर 
प्यार और  विश्वास से
 वो महकती खूब है 
बेरुखी बेकद्री से 
ना उसको तू परेशान कर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s