दुविधा

अपनी दुविधाएं खुद ही मिटानी होंगी
किसी से बोले तो नयी कहानी होंगी 
क्या पता किन किन बातों पे निर्भर हैं, हम सब पर
सबसे पहले तो निर्भरता मिटानी होंगी 

Leave a Reply