मुस्कान

वो कैसे मुस्काएं  जिन पर लागू सौ सौ पहरे हैं 
न वो हैं मुस्काएं  ज़ख्म भी जिनके गहरे हैं
मुस्काने हैं कई तरह की दुनिया के बाजार में    
गहरी है मुस्कान उन्हीं की जिनके दर्द भी गहरे हैं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s