कुछ लोग

कुछ लोगों का
 असमंजस में पूछना 
'क्यों मुरझा गया हमारा रिश्ता '
'क्यों दूर हो गया मेरा अपना'
मेरी समझ में 
पौधे और रिश्ते को 
एक ही तरह संभालना  
जैसे पौधे को चाहिए 
पानी सूर्य की रौशनी  
खाद और हवा 
और उनका सही अनुपात
वैसे ही रिश्ते को चाहिए 
प्यार ख्याल विश्वास
 और ज़ज़्बात
 मगर हमने 
कभी की कोई 'कमी' 
कभी भूले 'अनुपात'
सही मात्रा में हो
 प्यार विश्वास ख्याल 
और ज़ज़्बात का मिश्रण
तो भूल नहीं पाओगे 
साथ बिताये वो अमूल्य क्षण 

3 thoughts on “कुछ लोग

    1. साभार धन्यवाद !प्रभु आपको और आपके अपनों को स्वस्थ एवं सुखी रखें!

Leave a Reply