मोक्ष

'है मोक्ष के योग्य वही जो
 दुःख सुख को समान समझे
 इन्द्रिय विषयों के संयोग 
ना व्याकुल कर सकें जिसको '

Leave a Reply