धन्यवाद

तू मेरा हमसाया मेरा दोस्त मेरा यार  रहा  
हर उतार चढ़ाव में पग पग तू  मेरे साथ रहा  
दिल का जब दर्द बढ़ा रोई भी हूँ तेरे आगे 
तू  बढ़ाता रहा ताकत हमे संभालता ही रहा 
रोम रोम से दिल की हर धड़कन से हर स्वास से 
मेरे प्रभु! कोटि कोटि धन्यवाद! शुक्रिया! आभार! 
जीवन की नैया को डगमग देखते ही 
पतवार अपने हाथ लेने के लिए 
हे परमात्मा ! कोटि कोटि  धन्यवाद !शुक्रिया !आभार!  

Leave a Reply