गुनहगार

मेरे देशवासियों के दर्द, आंसुओं, 
आहों और चीखों की गूँज,
गुनहगारों की सज़ा बन जाए ! 
उनकी जिंदगी उनके लिए सज़ा बन जाए !
जिन्हे फर्क नहीं पड़ता दूसरों के जीने मरने से ,
ए खुदा! उनसे उनकी ताकत  छिन जाए !!

Leave a Reply