कर्मयोगी

"मन से इन्द्रियों को वश करके
जो अनासक्त करता कर्म
वो समस्त इन्द्रियों द्वारा
कर्म करके भी कर्मयोगी है"

Leave a Reply