शमन

"वश में जिसका हो मन
हो जितेन्द्रिय व् शुद्ध अंतःकरण
जो ध्यान से आत्मा में हो स्थित
ऐसे कर्मयोगी के हो सारे कर्मों का शमन"

Leave a Reply