दुराचारी

यदि कोई अतिशय दुराचारी भी 
दुराचार छोड़ अनन्य भाव से 
भगवान को भजता है 
तो वो साधू ही है !
वो समझ चुका है
परमात्मा के समान 
कुछ भी नहीं है ! 
वो शीघ्र ही धर्मात्मा हो
परम शांति को प्राप्त होता है !
भगवतभक्त कभी नष्ट नहीं होता !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s