बेरहम

इस बेरहम दुनियां में  कैसे प्यार के नग्मे लिखूं 
कैसे खुशियों से भरे मोहब्बत के तराने लिखूं 
इतनी उम्मीद से मेरी तरफ ना देख ,ए दोस्त! 
मज़बूर हूँ कि आँसू दर्द आह चीखें और बिछोड़ा लिखूँ  

Leave a Reply