राय है मेरी

राय है मेरी ! किसी के बारे में राय ना बनाइये
कुछ जानते नहीं तो बात ना बनाइये 
कुछ अच्छा बड़ा करने के लिए ,भेजा है  रब ने तुम्हे 
दूसरों की सोच में ,अपनी जान ना गंवाईये 
जिनके बारे में राय है, उन्हें तो  पता भी नहीं  
जो गलत लगते तुम्हे, अधिकांश गलत है नहीं 
उनको छोड़ कर कुछ अपने बारे में सोचिये 
अनमोल है जीवन आपका यूँ ही ना गंवाईये 
समझ उनकी, जीवन उनका, नजरिया भी उन्ही का है 
अपने काम से काम रखिये समय ना यूँ गंवाईये 
सलाह दीजे तब , जब की मांगी जाए आपसे 
खुद को न्यायाधीश समझ, जान तुम ना खाइये 
यूँ भी व्यर्थ निंदा करना पाप है बहुत बड़ा 
दिमाग का करें इस्तेमाल पाप ना कमाईये 
यार मान लीजिये दिल ना यूँ दुखाईये 
राय है मेरी ! किसी के बारे में राय ना बनाइये 

3 thoughts on “राय है मेरी

Leave a Reply