ताकीद

गिरता है जो ज़मीर से 
फ़र्ज़ है तेरा ताकीद करना 
फिर भी ना माने वो तो 
वाजिब है तेरा ज़लील करना 

Leave a Reply