राह के पत्थर

जानबूझकर आपकी राह के पत्थर बने हैं हम
चाहते हैं तुम्हें ! इतना कैसे फिसलने दें 
जुड़ा हुआ है ये दिल आपसे ज्यूँ ,स्वास शरीर से   
कैसे आपको यूँ ,हाथों की लकीरों से निकलने दें

3 thoughts on “राह के पत्थर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s