परमसिद्धि

 जैसे अग्नि है धुएं से युक्त 
वैसे हर कर्म है दोष से युक्त 
स्वधर्म में स्वाभाविक कर्म कर 
और हो जा परमसिद्धि युक्त  
 

Leave a Reply