वादा





दूर तक खामोशियाँ तन्हाईयाँ क्यों हैं 
लबों से मुस्कान दूर दूर क्यों है 
हमने तो खुद से वादा किया था खुश रहने का 
ए दिल, तू इतनी बगावत पे क्यों है   

2 thoughts on “वादा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s