क्यों

मैं क्यों रुकूं 
तेरी आवाज़ मेरे दिल तक नहीं आती 
मैं क्यों रुकूँ 
नयी ज़िंदगी राह में है बाहें फैलाती 

Leave a Reply