मज़बूरी

कुछ तो है जो हम दोनों को बांधे है 
प्यार परवाह आदत कुछ भी   
मगर मज़बूरी का नाम मत देना 
मज़बूरी में नहीं करते हम कुछ भी 

Leave a Reply