इंतज़ार

पलकों पर शाम सजाई है 
सुरों की महफ़िल सजाई है 
इंतज़ार में बेतरह धड़का है दिल 
आजा अब जान पे बन आयी है  

Leave a Reply