बदलाव

प्यार की धूप ढल गयी 
उम्र भी निकल गयी 
हसरतों के ज्वार में 
बात सब बदल गयी 
ना तू समझा ना मैं समझी 
हुआ ना कुछ हासिल भी 
होश आया तब जाना 
बात हाथ से निकल गयी 

2 thoughts on “बदलाव

Leave a Reply