भूल

दिल की राहों से गुजरते हुए 
       संभलना साहेब 
कहीं बाहर का रास्ता ना 
       भूल जाना  

Leave a Reply