थका हारा

क्यों तू थका हारा सा है 
दुनिया के बोझ का मारा सा है 
हैं तेरे साथ हर हाल में हम 
फिर क्यों ग़मों का मारा सा है ...

3 thoughts on “थका हारा

Leave a Reply