उधार

है कितना सब्र और इंतज़ार 
है कितनी बेकरारी और प्यार 
बस उतना ही जितना तुम्हें......  
हम लेते देते नहीं उधार ...  

Leave a Reply