भरपूर

हमे तो बार बार नहीं  मरना जीना 
एबीसीडी वनटूथ्री दुबारा नहीं पढ़ना  
ज़िन्दगी को लम्बा और भरपूर जियेंगे हम  
 रो रोकर डरकर भी गवारा नहीं जीना 

Leave a Reply