मीठी नज़्म

गुस्सा और मतभेद हो बारिश जैसा 
        जो बरसे और ख़त्म 
प्यार हो हवा की तरह खामोश आसपास 
   जो सुनाये कानों में मीठी नज़्म 

One thought on “मीठी नज़्म

Leave a Reply