स्तम्भ

रिश्तों के हैं प्रमुख तीन स्तम्भ 
प्यार ,परवाह और समर्पण 
तीनो का हो समावेश व् संतुलन 
नहीं तो बना रहेगा जीवन का घर्षण 

3 thoughts on “स्तम्भ

Leave a Reply to Rupali Cancel reply