रात

है रात घनेरी और लम्बी  
छायी है गहन उदासी भी.. 
रात के बाद सुबह होगी ही  
सो रात सहन हम कर लेंगे....

		

Leave a Reply