तय (decide)

जो  मुझे कहना है वो 
मैं तय करुँगी या तुम ?
क्या अच्छा क्या बुरा मुझे लगे 
ये भी तय करोगे तुम ? 
मेरे अहसास मेरे हों पर 
महसूस कैसे हों तय करोगे तुम !
अनुभव कड़वे हों तो मीठा कैसे कहूँ ? 
कड़वे को मीठा कहलवाओगे तुम ! 
जीवन झेला मैंने पाया खोया मैंने 
हर दुःख झेला मैंने और इसके
सरताज हो जाओगे तुम ! 
सही गलत का फैसला,अच्छे बुरे का फैसला 
अपनी राह चुनने का फैसला होगा मेरा ! 
रोक नहीं पाओगे तुम !
रोक नहीं पाओगे तुम !


2 thoughts on “तय (decide)

Leave a Reply