ख़ुद

ख़ुद से जंग तो रोज़ है
ख़ुद की ही खोज है 
हार विकल्प है नहीं 
जीत मेरी दोस्त है   

Leave a Reply