साथ

आँख से दर्द का दरिया बहे तो मत रोको 
जब तक न आये दिल को सब्र ! मत रोको  
सच्चे दोस्त साथ में रहते हैं चुपचाप खड़े 
साथ से वो जल्द हो जाएगा मज़बूत !उसे मत टोको 

4 thoughts on “साथ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s