मन ज़िद्दी

मन ज़िद्दी तो हम भी कम नहीं
जीतने की ज़िद में कोई हम सम नहीं   
कोशिश रहेगी समझाने की मन को  
फिर भी ना समझा अड़ा रहा तो गम नहीं 

Leave a Reply