नादान

न्याय करने में ब्रह्माण्ड 
कोई भेदभाव नहीं करता   
कर्मों का हिसाब करने में
ईश्वर स्त्री पुरुष नहीं देखता
उस का न्याय सर्वोपरि और उत्तम !
नादान है ! जो ऐसा नहीं मानता ...

3 thoughts on “नादान

Leave a Reply