तो जाने

सफलता तो सब झेल जाते है  
असफलता झेलो तो जाने 
मान करवाना तो सब को आता है 
किसी छोटे का मान कर पाओ तो जाने 
अपमान दे तो सकते हो 
खुद का सह पाओ तो जाने
सिर्फ अपना और अपने हिस्से का समझ आता है तुम्हे?  
दूसरे का दिल समझो तो जाने 
अपनी आँखों में उपहास लिए फिरते हो 
कभी खुद का करवाओ तो जाने 
आत्ममंथन के लिए कहते हो सबको तुम 
अपना कर पाओ तो जाने 
हर वक़्त हम कम और हमारी कमियां दिखती हैं तुम्हें ! 
हमारी तरह एक दिन गुजारो  तो जाने 
सुनो स्वाभिमान से कम कुछ भी मंज़ूर नहीं हमे अब 
फिर भी रब रूठे तो रब जाने  ,फिर भी रब रूठे तो रब जाने !






 

Leave a Reply