आज़ाद

तू खुशनसीब है गर तेरी यादें मिट  गयीं  
 बहुत अच्छा है ! स्लेट फिर से कोरी है ! 
नया लिखने के लिए ! बेहतर लिखने के लिए !
तू आज़ाद है !यादों की दखलंदाज़ी थोड़ी है !

One thought on “आज़ाद

Leave a Reply