अक्ल

जिसमे अपनी 'अक्ल 'नहीं और दूसरे की माननी नहीं
ऐसे व्यक्ति को मुश्किलों से कौन बचाये !
जो करे कोशिश !वो परायी आग में हाथ झुलसाये
वक़्त और सामर्थ्य दोनों गँवाए !! 

Leave a Reply