दर्द से दोस्ती

अक्सर दिल के दरवाज़े पर दर्द की दस्तक रही 
कहना चाहा बहुत कुछ पर दिल की दिल में ही रही 
ए दिल मासूम बच्चे सा दर्द से डरता क्यों है !
डर तब तलक ही है जब तक दर्द से दोस्ती न हुई  

9 thoughts on “दर्द से दोस्ती

Leave a Reply