कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ

कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ 
जहाँ आज तक मिला नहीं 
ए दिल चल !कहीं और चल!
वो  मंज़िल नहीं जहाँ सुकूँ नहीं
      कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ 
      जहाँ आज तक मिला नहीं 

किसी बात का है गिला नहीं 
कुछ मिला !कुछ मिला नहीं!
शायद यही तेरे भले में था 
नहीं आखिरी वो फूल! जो खिला नहीं! 
       कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ 
       जहाँ आज तक मिला नहीं 

सब जानते हैं करना प्यार 
करें वहाँ जहाँ इनका मन करे 
तू भूल मत तुझे चाहिए क्या 
उनकी ज़फ़ा तेरी वफ़ा  का सिला नहीं
         कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ 
        जहाँ आज तक मिला नहीं 

यूँ दर्द में ना डूब तू  
अपनी भी कीमत कुछ समझ 
करले खुद से दोस्ती 
हमेशा रहती है रात नहीं !
      कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ 
       जहाँ आज तक मिला नहीं 

4 thoughts on “कोई प्यार मत ढूंढो वहाँ

Leave a Reply to seemakaushikmukt Cancel reply